Wednesday, 17 September 2014

HINDI STATUS

सोचा था छुपा लेंगे गम अपना,
कम्बख्त आँखों ने ही बगावत कर दी


जब भी वो उदास हो उसे
मेरी कहानी सुना देना ,
मेरे हालात पर हंसना उसकी पुरानी आदत है


सब कुछ किया पर नाम ना हुआ।
महोबत क्यां करली बदनाम हो गए